अररिया- कालाजार उन्मूलन को लेकर दवा छिड़काव अभियान शुरू।

  • 09 प्रखंड के चिह्नित 127 गांवों में होगा छिड़काव, 60 दिनों तक चलेगा अभियान।
  • जिले में हाल के वर्षों में कालाजार के मामलों में आयी है कर्मी, सतर्कता जरूरी

अररिया, 05 सितंबर । जिले में कालाजार उन्मूलन को लेकर दूसरे चक्र का छिड़काव कार्य सोमवार से शुरू हुआ। संबंधित पीएचसी प्रभारी द्वारा छिड़काव दल को अभियान से संबंधित जरूरी दिशा निर्देश देते क्षेत्र रवाना किया गया। गौरतलब है कि चिह्नित गांवों में छिड़काव कर्मी घर-घर जाकर सिंथेटिक पैराथायराइड दवा का छिड़काव करेंगे। इस दौरान संभावित मरीजों को चिह्नित करने का कार्य भी किया जायेगा। 60 दिवसीय इस अभियान में चरणबद्ध तरीके से सभी प्रखंडों के चिह्नित गांवों में छिड़काव कार्य संपन्न कराया जायेगा।

छिड़काव के प्रति लोगों को किया जायेगा जागरूक

जिला वेक्टर जनित रोग नियंत्रण पदाधिकारी डॉ अजय कुमार सिंह ने बताया कि हाल के वर्षों में जिले में कालाजार के मामलों में अपेक्षित कमी आयी है। इसके बावजूद रोग पर पूर्ण नियंत्रण के लिये एहतियाती उपायों पर अमल जरूरी है। इसीलिये प्रभावित गांवों में सिंथेटिक पैराथायराइड दवा का छिड़काव जरूरी है। छिड़काव कार्य में कर्मियों की समुचित मदद की अपील उन्होंने आम लोगों से की।

ग्रामीणों को दी जायेगी छिड़काव की पूर्व जानकारी

वीडीसीओ ललन कुमार ने बताया कि छिड़काव अभियान की सफलता को लेकर चिह्नित गांवों में जागरूकता अभियान संचालित किया जा रहा है। संबंधित क्षेत्र की आशा व एएनएम द्वारा लोगों को छिड़काव संबंधी पूर्व सूचना मुहैया कराई जा रही है। निर्धारित मापदंडों के अनुरूप, घर व कमरों के छह फीट ऊंचाई तक, गौशाला व रसोई घर की पूरी दिवाल पर छिड़काव को लेकर कर्मियों को प्रशिक्षित किया गया है। अभियान के अनुश्रवण को लेकर जिला व प्रखंड स्तरीय स्वास्थ्य अधिकारियों की टीम गठित की गयी है।

जिले के चिह्नित 127 गांवों में होगा छिड़काव

दूसरे चक्र के छिड़काव के लिये जिले के सभी नौ प्रखंड के कुल 127 गांव चिह्नित किये गये हैं। छिड़काव कार्य में छह सदस्यीय 57 टीम लगाई गयी है । अभियान के क्रम में कुल 02 लाख 14 हजार 678 घरों में दवा छिड़काव की योजना है। इससे जिले के 10 लाख 42 हजार 599 लोग लाभान्वित होंगे।

छिड़काव के दौरान इन बातों का रखें ख्याल :

– छिड़काव के पूर्व घर की अन्दरूनी दीवार की छेद/दरार बंद कर दें
– घर के सभी कमरों, रसोई घर, पूजा घर, बथान एवं गोहाल आदि के अन्दरूनी दीवारों पर छह फीट तक छिड़काव अवश्य कराएं। छिड़काव के दो घंटे बाद ही घर में प्रवेश करें
– छिड़काव के पूर्व भोजन सामग्री, बर्तन, कपड़े आदि को घर से बाहर कर दें
– ढाई से तीन माह तक दीवारों पर लिपाई-पोताई ना करें, इससे कीटनाशक (एस.पी) का असर बना रहे
– अपने क्षेत्र में कीटनाशक छिड़काव की तिथि की जानकारी आशा दीदी से प्राप्त करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.