अररिया – जिला योजना पदाधिकारी विनोद कुमार का अग्रिम जमानत याचिका खारिज

– जिला एवं सत्र न्यायाधीश पीयूष कमल दीक्षित ने सुनवाई उपरांत आदेश पारित किया

– एसडीपीओ पुष्कर कुमार ने कहा कि जिला योजना पदाधिकारी विनोद कुमार के खिलाफ दर्ज़ कांड के अनुसंधान व पर्यवेक्षण मे मामला सत्य पाया गया है।

– अग्रेत्तर करवाई के लिए माननीय न्यायालय से प्रार्थना हेतु आवेदन दाखिल किया जा चुका है।

नज़रिया न्यूज़ (विकास प्रकाश), अररिया।

बहुचर्चित अररिया मे पदस्थापित जिला योजना पदाधिकारी विनोद कुमार का अग्रिम जमानत याचिका को सुनवाई उपरांत जिला एवं सत्र न्यायाधीश पीयूष कमल दीक्षित के द्वारा अस्वीकृत कर दिया गया है।

विनोद कुमार के द्वारा जिला एवं सत्र न्यायाधीश अररिया के न्यायलय मे दिनांक 22 जुलाई 2022 को अग्रिम जमानत आवेदन पत्र संख्या 1752/2022 दाखिल किया गया था, जहाँ दोनो पक्षो की सुनवाई पश्चात खारिज कर दिया गया है।

फ़ोटो : योजना पदाधिकारी विनोद कुमार

जिला योजना पदाधिकारी विनोद कुमार के विरुद्ध सूचक शेखर जालान पिता दामोदर प्रसाद जालान सेवक रोड सिलीगुड़ी द्वारा अररिया थाना कांड संख्या 1083/2019 दिनांक 12 दिसंबर 2019 को आईपीसी की धारा 406, 420, 467, 468, 471, 472, 120 बी के तहत दाखिल किया गया था।

सूचक शेखर जालान द्वारा 10 दिसंबर 2019 पुलिस अधीक्षक अररिया को लिखित आवेदन पत्र देते हुए उचित कारवाई करने का प्रार्थना करते हुए आपूर्ति किये गए समान के विरुद्ध भुगतान करने के संबंध में भी गुहार लगाई है।

सूचक शेखर जालान ने अपने आवेदन पत्र में कहा है कि 2 करोड़ 49 लाख 99 हज़ार 480 रुपये का कार्य पूर्व सांसद सरफराज आलम का भी कर रखा है, जिसका भुगतान भी नही कर रहे हैं।

आगे लिखा है कि मनीष उसका ऑफिस स्टॉफ का कहना है कि अभी दिल्ली से पैसा नही आया है और अगर मंगवाना हैं तो इसके लिए एक प्रतिशत कमीशन मुझे देना होगा।

प्रार्थमिकी मे स्पस्ट रूप से लिखा है कि सक्षम पदाधिकारी के आदेश के अनुरूप अपना समय व पूंजी लगाया है। जिला योजना पदाधिकारी के इस आदेश और व्यवहार ने मुझे और मेरे परिवार को आत्महत्या करने की स्थिति में ला दिया है।

सनद रहे कि प्रार्थमिकी दर्ज होने से लगभग ढाई वर्ष बीत रहा है परन्तु अनुसंधान कर्ता पुलिस पदाधिकारी द्वारा अबतक जिला योजना पदाधिकारी को गिरफ्तार नही करना एक प्रश्नचिन्ह लग रहा है।

दूसरी ओर, जिला योजना पदाधिकारी विनोद कुमार से सम्पर्क करने पर उन्होंने बताया कि उनके ऊपर लगाए गए सारे आरोप गलत एवं बेबुनियाद हैं। उन्होंने कहा कि अब, अग्रिम जमानत के लिए माननीय पटना उच्च न्यायालय के यहाँ अर्जी दाखिल करेंगे।

फ़ोटो : एसडीपीओ पुष्कर कुमार
##
जिला योजना पदाधिकारी विनोद कुमार की गिरफ्तारी को लेकर एसडीपीओ पुष्कर कुमार ने क्या कहा ?

विनोद कुमार के खिलाफ दर्ज़ कांड के अनुसंधान व पर्यवेक्षण मे मामला सत्य पाया गया है। अग्रेत्तर करवाई के लिए माननीय न्यायालय से प्रार्थना हेतु आवेदन दाखिल किया जा चुका है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.