अररिया- जिले के प्रमुख चिकित्सा संस्थानों में होगा नियंत्रण कक्ष संचालित।

  • त्योहार के दौरान सभी स्वास्थ्य केंद्रों पर इलाज को होगा समुचित इंतजाम

अररिया, 21 अक्टूबर । दीपावली व छठ महापर्व के दौरान दुर्घटना के संभावित मामलों से निपटने के लिये स्वास्थ्य विभाग द्वारा जरूरी तैयारी की जा रही है। गौरतलब है कि छठ महापर्व व कार्तिक पूर्णिमा के दौरान नदी घाटों पर पूजा अर्चना व स्नान के लिये जुटने वाली भीड़ के कारण दुर्घटना की आशंका बनी रहती है। साथ ही दीपावली में आतिशबाजी के दौरान भी बड़ी संख्या में जलने की घटनाएं घटित होती है। लिहाजा संभावित दुर्घटना की आशंका हमेशा बनी रहती है। इसे लेकर जिला स्वास्थ्य विभाग द्वारा जरूरी तैयारी को अंतिम रूप दिया जा रहा है।

होगा विशेष चिकित्सकीय इंतजाम

जानकारी देते हुए सिविल सर्जन डॉ विधानचंद्र सिंह ने बताया कि त्योहार के दौरान दुर्घटना की आशंका को देखते इससे निपटने को लेकर विभागीय स्तर से सभी जरूरी तैयारियों को अंतिम रूप दिया जा रहा है। उन्होंने बताया कि दुर्घटना के संभावित मामलों से निपटने के लिये जिले के प्रमुख अस्पताल में इस दौरान नियंत्रण कक्ष का संचालन किया जायेगा। इसमें तीन पालियों में कर्मी प्रतिनियुक्त होंगे। इसके किसी आपाताकालीन स्थिति से निपटने के लिये प्रमुख अस्पतालों में विशेष आपातकालीन कक्ष संचालित किया जायेगा। सभी अस्पतालों को तमाम जरूरी जीवन रक्षक दवाओं की उपलब्धता, एंबुलेंस, ट्रॉली का इंतजाम रहेगा। सदर अस्पताल व अनुमंडल अस्पताल में बर्न वार्ड को खास तौर पर अलर्ट किया गया है। वरीय चिकित्सा पदाधिकारी व पारा मेडिकल स्टॉफ को इस दौरान विशेष सतर्कता बरतने का निर्देश दिया गया है। स्वास्थ्य अधिकारियों को किसी तरह के सहयोग के लिये जिला प्रशासन से निरंतर समन्वय बनाये रखने का निर्देश दिया गया है।

सदर व अनुमंडल अस्पताल में होगा नियंत्रण कक्ष संचालित

डीपीएम स्वास्थ्य रेहान अशरफ ने बताया कि सदर अस्पताल अररिया व अनुमंडल अस्पताल फारबिसगंज में इस दौरान विशेष नियंत्रण कक्ष संचालित किया जायेगा। इसमें वरीय चिकित्सक व चार पारा मेडिकल कर्मियों की प्रतिनियुक्ति होंगे। कर्मियों की प्रतिनियुक्ति व रोस्टर का निर्धारण सिविल सर्जन के स्तर से किया जाना है। उन्होंने बताया कि सदर अस्पताल व अनुमंडल अस्पताल फारबिसगंज में अतिरिक्त 06 बेड के साथ अलग कक्ष का इंतजाम किया गया है। किसी आकस्मिक स्थिति से निपटने में इसका इस्तेमाल किया जायेगा। पीएचसी स्तर पर पर स्वास्थ्य अधिकारी व कर्मी की विशेष टीम गठित की होगी. जो किसी आपात स्थिति से निपटने में जरूरी सहयोग के लिये जिम्मेदार होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.