अररिया- विशेष अभियान में बड़ी संख्या में लोगों ने प्रीकॉशन डोज का टीका।

  • शिक्षण संस्थानों में सत्र आयोजित योग्य स्कूली बच्चों को लगाया गया टीका
  • अभियान की उपलब्धि संतोषजनक, सामूहिक प्रयास से बेहतर उपलब्धि संभव

अररिया, 01 सितंबर । जिले में योग्य लाभुकों के टीकाकरण को लेकर गुरुवार को विशेष टीकाकरण अभियान संचालित किया गया। अभियान में प्रीकॉशन डोज व 12 से 14 साल के अधिक-अधिक लाभुकों को टीकाकृत करने का लक्ष्य था। इसे लेकर बड़ी संख्या में सरकारी व निजी विद्यालयों के साथ-साथ मदरसों में टीकाकरण संचालित किया गया। अभियान में देर शाम तक 15 हजार 408 लाभुकों को टीका लगाये जाने की जानकारी है।

 

15 हजार से अधिक लाभुक टीकाकृत

डीआईओ डॉ मोईज ने अभियान के तहत बेहतर उपलब्धियों का भरोसा जताया। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य, शिक्षा व आईसीडीएस के सहयोग से इससे पूर्व संचालित दो अभियान की उपलब्धि काफी बेहतर रही है। लिहाजा इस बार भी हमारी उपलब्धि 15 हजार से अधिक रहा। उन्होंने बताया कि टीकाकरण संबंधी उपलब्ध आंकड़ों के मुताबिक अब तक 01 हजार 534 लाभुक को टीका का पहला, 06 हजार 195 लाभुक को दूसरा व 07 हजार 679 लाभुक को प्रीकॉशन डोज का टीका लगाया गया है। देर शाम तक कुल 15 हजार 408 लाभुकों को टीकाकृत किये जाने की जानकारी उन्होंने दी। उन्होंने बताया कि वंचितों के टीकाकरण को लेकर आगामी शनिवार को भी विशेष अभियान संचालित है।

 

अररिया में हुआ सबसे अधिक टीकाकरण

डीपीएम स्वास्थ्य ने बताया देर दोपहर तक उपलब्ध आंकड़ों के मुताबिक अभियान के क्रम में अररिया में 02 हजार 693, सिकटी में 01 हजार 988, रानीगंज में 01 हजार 133, भरगामा में 01 हजार 455, जोकीहाट में 01 हजार 728, पलासी में 01 हजार 858, नरपतगंज में 01 हजार 425, फारबिसगंज में 02 हजार 601, कुर्साकांटा में 527 लाभुकों को टीकाकृत किया गया ।

 

सामूहिक सहयोग से उपलब्धियों में सुधार संभव

 

सिविल सर्जन डॉ विधानचंद्र सिंह ने अभियान की उपलब्धियों पर संतोष जाहिर किया। उन्होंने कहा टीकाकरण मामले में सामूहिक प्रयास का बेहतर परिणाम दिख रहा है। टीकाकरण मामले में सुधार की हमारी कोशिशें जारी है। इसमें आम लोगों का सहयोग अपेक्षित है। लोगों को प्रीकॉशन डोज के प्रति दिलचस्पी दिखाने की जरूरत है। जो इस महामारी पर पभावी अंकुश व इसे जड़ से खत्म करने के लिहाज से महत्वपूर्ण है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.