अररिया – सामाजिक संगठन अररिया के मुद्दा के बैनर तले अपहृत बालक के माता-पिता ने किया प्रेस कॉन्फ्रेंस,

– अपहृत बालक के माता-पिता ने क्या प्रेस कांफ्रेंस
– एसआईटी एवं सीआईडी टीम के गठन की माँग
– एसपी से मिलकर दिया आवेदन।

नजरिया संवाद अररिया। ज्ञात हो कि 20 दिन पूर्व अपहरण किए गए लगभग 4 वर्षीय बालक अररिया के मोहम्मद रय्यान का अब तक सुराग नहीं मिला।

अपहृत बालक के पिता श्री इमरान ने कहा है के हमारा ज़मीन-जगह और सब कुछ ले लो लेकिन हमारा बच्चा मुझे दे दो वर्ना हम दोनों पति-पत्नी भी ज़िन्दा नहीं रहेंगे।

इस मौके पर अपहृत बच्चे के माता बीबी रूबी ने कहा के मेरे बच्चे को हर हाल में बरामद किया जाए, जिंदा या मुर्दा पर किया जाए. हम लोग बहुत परेशन हैं और आम लोग से गुज़ारिश के हमारे बच्चे को ढूँढने में हमारी मदद करें, हमें कुछ नहीं चाहिए अपना बच्चा चाहिए वो भी ज़िन्दा या मुर्दा।

बच्चे के पिता ने कहा के जब हम फारबिसगंज डी एस पी से मिले तो उन्होंने कहा के अपहरणकर्ता ने बच्चे को नहर में कहीं फ़ेक दिया होगा उसे कुत्ता खा गया होगा, बड़ा आदमी होता तो हड्डी मिलता, अब उसे कहा ढूंढे।

इस मौके पर अररिया का मुद्दा का संचालक फैसल जावेद यासीन ने मांग की जिला प्रशासन से अविलम्ब एसआईटी का गठन किया जाए एवं सीएईडी को केस सौंपा जाए.
उन्होंने ने कहा के बच्चे के बरामदगी नहीं हुई तो हमलोग अपने स्तर पर आंदोलन को मजबूर होंगे।

इस मौके पर याजदा मिर्जा ने कहा के आज ज़न प्रतिनिधि और अधिकारोंयों को एक एक माँ की ममता क्यों नहीं दिख रहा.

प्रेस कांफ्रेंस के उपरांत अपहृत बच्चे के माता-पिता एवं अररिया का मुद्दा संगठन के संचालक एसपी से मुलाकात कर एस आई टी टीम टीम गठन करने की बात कही एवं सी आई डी को मामला सौंपने की मांग कहीं उन्होंने इस बाबत आवेदन भी सौंपा।

आवेदन में लिखा है,

विषय : 20 दिन पूर्व अपहृत बालक का अब तक सुराग नहीं मिलने के सम्बंध में,
महाशय,
निवेदन है कि मैं बीबी रूबी प्रवीण पति मोहम्मद इमरान, डोरिया सोनारपुर का निवासी हूँ,
मेरे 4 वर्षीय पुत्र मोहम्मद रय्यान का विगत 10- अगस्त को शाम 6:30 बजे लाईन चौक डोरिया-सोनारपुर के पास से अपहरण कर लिया गया था।

इस मामले में दो संदिग्ध की गिरफ्तारी तो हुई है किन्तु बच्चे का सुराग अब तक नहीं मिल पाया,
स्थानीय प्रशासन के कार्य से हम पीड़ित परिवार सन्तुष्ट नहीं है।

अतः श्रीमान से निवेदन है कि इस बाबत एस आई टी एवं सीआइडी की टीम गठित कर निष्पक्ष जाँच किया जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.