अररिया- सास-बहू सम्मेलन के जरिये जनसंख्या स्थिरीकरण को दिया जा रहा बढ़ावा।

  • सम्मेलन में सीमित परिवार के लाभ से ग्रामीण महिलाओं को कराया जा रहा अवगत।
  • प्रजनन स्वास्थ्य के प्रति लोगों की धारणा, व्यवहार व विश्वास में बदलाव की है पहल

अररिया, 23 नवंबर । स्वास्थ्य विभाग जिले में जनसंख्या नियंत्रण संबंधी उपायों की मजबूती के लिये विशेष पहल कर रही है. इसके तहत ग्रामीण इलाकों में सास-बहू सम्मेलन आयोजित कर स्थानीय महिलाओं को सीमित परिवार के लाभ, विवाह की सही आयु, बच्चों के बीच पर्याप्त अंतर व परिवान नियोजन के लिये उपलब्ध स्थायी व अस्थायी साधनों के प्रति जागरूक किया जा रहा है. ग्रामीण इलाकों में संचालित हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर इसके सफल संचालन में मददगार साबित हो रहे हैं . वेलनेस सेंटर पर कार्यरत सीएचओ सहित संबंधित एएनएम व आशा कार्यकर्ता ग्रामीण महिलाओं को छोटे परिवार के महत्व से अवगत करा रही हैं. स्थानीय भाषा व लहजे में इस पर विस्तृत चर्चा से महिलाओं पर इसका सकारात्मक असर भी दिखने लगा है.

सीमित परिवार के लाभ के प्रति किया जा रहा जागरूक

अररिया के एचडब्ल्यूसी मुडबल्ला की सीएचओ वंदना कुमारी ने बताया कि सम्मेलन में खुशनुमा माहौल के बीच सास व बहुओं को छोटे परिवार के महत्व, इसके लिये उपलब्ध संसाधन, परिवार नियोजन के स्थायी व अस्थायी उपाय के संबंध में विस्तृत जानकारी दी जाती है. ये कोशिश होती है कि परिवार का आकार छोटा रखने में सास भी बहू के फैसले का स्वागत करें. इस क्रम में विवाह की सही आयु, विवाह के दो साल बाद पहला बच्चा व दो बच्चों के बीच कम से कम तीन साल का अंतर रखने के लिये महिलाओं को प्रेरित
किया जाता है.

जनसंख्या स्थिरीकरण उपायों को मिलेगी मजबूती

सिविल सर्जन डॉ विधानचंद्र सिंह ने जनसंख्या स्थिरीकरण संबंधी उपायों की मजबूती के लिये इसे जरूरी पहल बताया. उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य कर्मियों द्वारा इस तरह के सम्मेलन में परिवार नियोजन सहित विभिन्न स्वास्थ्य कार्यक्रमों के प्रति जागरूक किया जा रहा है. इससे ग्रामीण महिलाओं के मन में व्याप्त भ्रांतियों को दूर करने में मदद मिल रही है. आने वाले समय में इसका सकारात्मक असर दिखेगा.

लोगों के व्यवहार व विश्वास में बदलाव का है प्रयास

डीपीएम स्वास्थ्य ने कहा कि ऐसे आयोजनों से प्रसव पूर्व जांच और सुरक्षित प्रसव संबंधी मामलों में अपेक्षाकृत सुधार संभव है. इससे प्रजनन स्वास्थ्य के प्रति आम लोगों की अवधारणाओं, व्यवहार व विश्वास में बदलाव संभव है. उन्होंने स्वास्थ्य विभाग द्वारा संचालित मिशन परिवार विकास कार्यक्रम की मजबूती के लिये ऐसे आयोजनों को महत्वपूर्ण बताया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.