अररिया- सेविका-सहायिका सहित केंद्र पर उपस्थित बच्चों को यूनिफार्म में होना जरूरी : डीएम।

  • यूनिफार्म में नहीं रहने पर संबंधित कर्मियों के मानदेय में होगी कटौती।
  • आंगनबाड़ी केंद्रों का सफल संचालन करायें सुनिश्चित : जिलाधिकारी

अररिया, 23 अगस्त । जिलाधिकारी इनायत खान ने मंगलवार को आईसीडीएस से संबंधित मामलों की गहन समीक्षा की। इस क्रम में उन्होंने आंगनबाड़ी केंद्रों में बच्चे ही नहीं, सेविका व सहायिका के यूनिफार्म में नहीं होने पर गहरी नाराजगी व्यक्त की। डीएम ने कहा कि वरीय अधिकारियों की जांच में बच्चे ही नहीं, सेविका व सहायिका के यूनिफार्म में नहीं होने पर उसके विरूद्ध दंडात्मक कार्रवाई की जायेगी। सभी सीडीपीओ को केंद्र पर नामांकित बच्चों को यूनिफार्म की खरीद के लिये निर्धारित राशि के भुगतान प्रक्रिया में उन्होंने तेजी लाने का निर्देश दिया। साथ ही कहा कि निरीक्षण के क्रम में सेविका व सहायिका अगर यूनिफार्म में नहीं पायी गयीं, तो उनका उस दिन का मानदेय काट लिया जायेगा। महिला पर्यवेक्षिका व सीडीपीओ को संबंधित विभाग से समन्वय स्थापित करते हुए बच्चों को यूनिफार्म संबंधी राशि का शतप्रतिशत भुगतान सुनिश्चित कराने को कहा। साथ ही सेविका व सहायिका की मदद से अभिभावकों को यूनिफार्म की खरीद व उपयोग के लिये प्रेरित करने को कहा।

आंगनबाड़ी केंद्रों के निरीक्षण प्रक्रिया में लायें तेजी

आंगनबाड़ी केंद्रों के सफल क्रियान्वयन के उद्देश्य से जिलाधिकारी इनायत खान ने केंद्रों के निरीक्षण प्रक्रिया में तेजी लाने का निर्देश डीपीओ आईसीडीएस को दिया। डीएम ने कहा कि निरीक्षण के क्रम में केंद्र के संचालन से जुड़ी किसी तरह की शिकायत पाये जाने पर संबंधित सेविका के विरूद्ध विभागात्मक कार्रवाई सुनिश्चित करायी जाये। समीक्षा के क्रम में पाया गया कि जुलाई महीने में कुर्साकांटा प्रखंड में 26 केंद्रों की जांच में 06 स्थानों पर व फारबिसगंज में 28 केंद्रों की जांच में 02 केंद्रों के संचालन में गड़बड़ी की शिकायत मिली। बैठक में बहुत से केंद्रों पर वजन मशीन व हाईट मशीन के खराब होने या इस्तेमाल में नहीं लाये जाने की शिकायतें मिलने पर डीएम ने इसे लेकर कड़े निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिये।

सेविका व सहायिका के कार्यों का होगा मूल्यांकन

डीएम ने इनायत खान ने स्वास्थ्य कर्मियों की तर्ज पर महिला पर्यवेक्षिका, सेविका व सहायिका के कार्यों के सतत अनुश्रवण का निर्देश दिया। इसमें बेहतर व कमतर प्रदर्शन करने वाले कर्मियों को चिह्नित कर रिपोर्ट सौंपने को कहा। ताकि उनके खिलाफ जरूरी कार्रवाई सुनिश्चित कराई जा सके। इसके लिये डीपीओ आईसीडीएस व एसीएमओ के संयुक्त जिम्मेदारी सौंपी गयी। बैठक में जन्म प्रमाणपत्र निर्गत किये जाने में होने वाली देरी के कारण पीएमएमभीवाई के 1889 लाभुकों को तृतीय किस्त के भुगतन में हो रहे विलंब पर डीएम ने अपनी नाराजगी जाहिर करते हुए हर हाल में नवजात के जन्म के 24 घंटें के अंदर जन्म प्रमाण अभिभावकों को उपलब्ध कराने का निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिया। बैठक में सीडीपीओ रंजना सिंह, पोषण अभियान के जिला समन्वयक कुणाल श्रीवास्तव, पीएमएमभीवाई के जिला समन्वयक शोएब रूमी, आरएयू पूसा के जिला समन्वयक केशव कुणाल सहित सभी सीडीपीओ व संबंधित अन्य अधिकारी मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.