अररिया- स्वास्थ्य संस्थानों में निर्धारित रोस्टर का अनुपालन करायें सुनिश्चित : डीएम।

  • स्वास्थ्य व आईसीडीएस से संबंधित मामलों की जिलाधिकारी ने की समीक्षा
  • डीएम ने कार्य व दायित्व के प्रति उदासीन कर्मियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की दी चेतावनी

अररिया, 15 नवंबर । स्वास्थ्य व आईसीडीएस से संबंधित मामलों की समीक्षा को लेकर मंगलवार को विशेष बैठक आयोजित की गयी। समाहरणालय स्थित परमान सभागार में आयोजित बैठक की अध्यक्षता जिलाधिकारी इनायत खान ने की। बैठक में उन्होंने विभागवार संचालित योजनाओं के अद्यतन स्थिति की समीक्षा करते हुए संबंधित अधिकारियों को जरूरी दिशा निर्देश दिये। आईसीडीएस से संबंधित मामलों की समीक्षा के क्रम में जिलाधिकारी ने सीडीपीओ व महिला सुपरवाइजर को अपने काम के प्रति ईमानदार रूख अपनाने का निर्देश दिया। उन्होंने सीडीपीओ व एलएस से संबंधित कार्यों की मासिक स्कोर कार्ड तैयार करने का निर्देश दिया। इसमें कमतर प्रदर्शन करने वाले कर्मी के खिलाफ विभागीय कार्रवाई की चेतावनी दी। नियमित निरीक्षण करते केंद्रों का सफल संचालन सुनिश्चित कराने का निर्देश उन्होंने दिया।

निर्धारित रोस्टर का अनुपालन करायें सुनिश्चित

जिलाधिकरी ने क्षेत्र भ्रमण के दौरान विभिन्न अस्पतालों के संचालन से जुड़ी खामियों को इंगित करते हुए इसमें सुधार को लेकर कड़े निर्देश दिये । उन्होंने कहा कि सदर अस्पताल सहित अन्य अस्पतालों में निर्धारित रोस्टर का अनुपालन सख्ती पूर्वक सुनिश्चित कराया जाये। वेलनेस सेंटर पर ओपीडी सेवाओं को ज्यादा कारगर व प्रभावी बनाने का निर्देश दिया। डीएम ने कहा कि जिम्मेदारी पूर्वक अपने कर्तव्यों का निवर्हन नहीं करने वाले चिकित्सक व कर्मियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए । डीएम ने बेहतर कार्य के लिये जिले की तीन एएनएम फारबिसगंज की नीलम कुमारी, कुर्साकांटा की रिंकी कुमारी व अररिया की राखी कुमारी को प्रशस्ती पत्र देकर सम्मानित किया. वहीं कमतर प्रदर्शन करने वाली जोकीहाट की रंजू सिन्हा, रानीगंज की सुशीला कुमारी, नीतू कुमारी को अपने प्रदर्शन में सुधार का निर्देश दिया।

प्रतिनियुक्ति मामले की जांच के लिये कमेटी गठित

विभिन्न स्वास्थ्य मानकों में कमतर प्रदर्शन के लिये रानीगंज, फारबिसगंज व भरगामा के चिकित्सा पदाधिकारी को अपने प्रदर्शन में सुधार को लेकर कड़े निर्देश दिये । प्रखंड चिकित्सा पदाधिकारी द्वारा मनमाने तरीके से एएनएम के स्थानांतरण पर उन्होंने कड़ी आपत्ति दर्ज की। रानीगंज में लेबर रूम इंचार्ज के पुन: प्रतिनियुक्ति मामले को गंभीरता से लेते हुए उन्होंने इसे लेकर सिविल सर्जन की अध्यक्षता में तीन सदस्यीय कमेटी गठित कर पूरे मामले की जांच कर तीन दिनों के अंदर रिपोर्ट सौंपने का निर्देश दिया।

विभागीय स्तर पर समन्वय को बनाये बेहतर

जिलाधिकारी ने कहा कि राष्ट्रीय एनीमिया मुक्त कार्यक्रम के तहत साप्ताहिक आइरन व फोलिक एसीड स्पलिमेंटेशन कार्यक्रम व आईएफए टेबलेट के वितरण संबंधी कार्यक्रम की सफलता में स्वास्थ्य, शिक्षा व आईसीडीएस विभागों के परस्पर बेहतर समन्वय को जरूरी बताया। उन्होंने कहा कि अति कुपोषित बच्चों को चिह्नित कर उन्हें इलाज के एनआरसी भेंजे। सभी चिकित्सा केंद्रों पर ओपीडी सेवाओं के साथ-साथ एनसीडी स्क्रीनिंग सेवाओं के प्रभावी क्रियान्वयन का निर्देश उन्होंने दिया। उप विकास आयुक्त मनोज कुमार ने स्वास्थ्य अधिकारियों को संबोधित करते हुए कमतर प्रदर्शन करने वाले प्रखंडों को इसमें सुधार को लेकर जरूरी दिशा निर्देश दिये। अपने कर्तव्य व जिम्मेदारियों के प्रति ईमानदार रवैया अपनाते हुए उन्होंने आम लोगों तक बेहतर स्वास्थ्य सेवाओं की पहुंच सुनिश्चित कराने का निर्देश दिया।

हर एक व्यक्ति तक बेहतर सेवा पहुंचाना लक्ष्य

सिविल सर्जन डॉ विधानचंद्र सिंह ने कहा कि कार्य व जिम्मेदारी के प्रति लापरवाह अधिकारी व कर्मी अगर अपने रवैये में बदलाव नहीं करते तो मजबूरन उन्हें कड़े कदम उठाने होंगे। डीपीएम स्वास्थ्य रेहान अशरफ ने कहा कि स्वास्थ्य संबंधी मामलों में हमारे प्रदर्शन में सुधार निरंतर जारी है। हर कदम बढ़ते कदम अभियान इस दिशा में महत्वपूर्ण साबित हो रहा है। इसके अगले चरण में एनसीडी सेवाओं की बेहतर व प्रभावी बनाने की रणनीति है। जरूरतमंद हर एक व्यक्ति तक बेहतर सेवाओं का लाभ पहुंचाने के लिये स्वास्थ्य कर्मियों का समर्पण व सामूहिक प्रयास जरूरी है। कार्यक्रम में एसीएमओ डॉ राजेश कुमार, डीवीबीडीसीओ डॉ अजय कुमार सिंह, डीआईओ डॉ मोईज, डीईओ राज कुमार, डीपीओ आईसीडीएस रंजना सिंह, डीपीओ जीविका धर्मवीर कुमार सहित सभी एमओआईसी, बीएचएम, सीडीपीओ सहित संबंधित अन्य विभागीय अधिकारी व कर्मी मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.