दरभंगा- फाइलेरिया मरीज़ों के आसपास के इलाके में ब्लड सैम्पल लेने का निर्देश –भूपेन्द्र त्रिपाठी।

  • स्वास्थ्य मंत्रालय भारत सरकार दिल्ली से आयी दो सदस्यीय ज्वॉइंट मानिटरिंग टीम ने फाइलेरिया व सीएस कार्यालय का किया अवलोकन
  • फाइलेरिया को लेकर चलाये जा रहे कार्यक्रम का लिया जायज़ा
  • आगामी बेहतर प्रबंधन को लेकर अधिकारियों को दिया निर्देश

दरभंगा,17 नवंबर । स्वास्थ्य मंत्रालय भारत सरकार द्वारा भेजी गई दिल्ली की ज्वॉइंट मानिटरिंग टीम ने गुरुवार को फाइलेरिया व सीएस कार्यालय का अवलोकन किया. इसमें बीएमजीएफ के कंट्री हेड डॉ भूपेंद्र त्रिपाठी, वैज्ञानिक डॉ सुब्रमन्यम एवं सीएफएआर के डॉ एस के पांडेय शामिल थे. तीनों अधिकारी करीब 11 बजे सिविल सर्जन कार्यालय पहुंचे. वहां प्रमुख रूप से फाइलेरिया व संबंधित रोग व उपचार के बाबत जानकारी ली. उसके पश्चात करीब 12 बजे सभी फाइलेरिया कार्यालय पहुंचे. इस दौरान डॉ भूपेंद्र त्रिपाठी कार्यालय के सभी अधिकारियों के कार्य से अवगत हुए. साथ ही फाइलेरिया से संबंधित फॉगिंग, नाइट ब्लड सर्वे एवं संबंधितकागज़ात की जांच की. मौके पर कार्यालय परिसर में वर्षो से रखे गए परित्यक्त एम्बुलेंस को हटाने एवं साफ सफाई पर विशेष ध्यान देने को कहा, ताकि मच्छरों के पनपने को रोका जा सके. इस क्रम में फाइलेरिया क्लीनिक में आये मरीज़ों की चिकित्सा व दवा को लेकर विभागीय सुविधा का अवलोकन किया.


मरीज़ों के इलाके में ब्लड सर्वे का दिया निर्देश-

बीएमजीएफ के डॉ त्रिपाठी ने फाइलेरिया के मरीज़ों के आसपास ब्लड सैम्पल लेने को कहा. इस इलाके में अन्य प्रभावित लोगों की वास्तविक शारिरिक स्थिति की जानकारी विभाग को भेजने को कहा, ताकि फाइलेरिया के प्रभाव को प्रसारित होने से रोका जा सके. इसके अलावा फाइलेरिया मरीज़ों के पैर में जूते को लेकर आवश्यक कदम उठाने को कहा. विदित हो कि फाइलेरिया के मरीज़ों का पाँव फूल जाता है. सामान्य जूते वो पहन नहीं सकते हैं . उनके लिए पैर के नाप के अनुसार जूता की व्यवस्था करने को कहा. इससे फाइलेरिया मरीज़ों के पैर ज़ख्मी न हो जाए.

आन स्पॉट शिवाजी नगर से आये फाइलेरिया मरीज़ माँ व उसके पुत्र को कराई चिकित्सा-

कार्यालय के अवलोकन के दौरान डॉ भूपेंद्र ने शिवाजी नगर मोहल्ला से आये फाइलेरिया के मरीज़ माँ मीरा देवी व उसके पुत्र मिथिलेश कुमार से उनके परेशानियों के बारे में जानकारी ली. उसी समय विभाग के डॉक्टरों से मां पुत्र की चिकित्सा करने को कहा. वहीं घर पर खुद से साफ सफाई का तरीका बताया. मरीज़ों को कहा गया कि विभाग से मिले एमएमडीपी किट की सहायता से पाँव के घाव को साफ करने का तरीका बताया गया. साथ ही फाइलेरिया के मरीज़ों को योग व व्यायाम करने को कहा. मौके पर डीएमओ डॉ जेपी महतो, डब्ल्यू एचओ के डॉ दिलीप, केयर के धीरज सिंह, अंशु कुमार, गणेश महासेठ, बबन प्रसाद, आशुतोष कुमार आदि मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.