दिनदहाड़े घर में घुसकर मारपीट करने, लूटपाट मचाने  तथा घर को जला देने वाले अब तक पुलिस की गिरफ्त से बाहर।

राजकुमार ♦नजरिया संवाददाता

 दिन के 12  बजे के आसपास  हाथ में हरवे  हथियार  लेकर घर में घुसकर अकेली महिला के साथ  मारपीट करने, जान से मार देने कि धमकी देने, घर में रखे बक्से को तोड़कर 50 हजार  नगदी समेत सोने के जेवरात लूट लेने इतना ही नहीं जाने से पहले पेट्रोल छिड़ककर घर में आग लगा देने वाले दबंग अपराध कर्मियों की अब तक धर- ड़कर शुरू नहीं हुई है। जबकि 28अगस्त को ही मामला दर्ज हुआ है। बता दें कि  बारसोई बाजार से सटे आजमनगर प्रखंड के जितवारपुर गांव कि रहने वाली पीड़ित सादिक  खातून 35 ने  सालमारी ओपी में अपने साथ घटी घटना को लेकर न्याय की गुहार लगाते हुए मामला दर्ज करने अपील के साथ आवेदन दिया है। परंतु आज तक कोई ढंग की कार्यवाही नहीं हुई है। वहीं सालमारी पुलिस और बारसोई डीएसपी   प्रेम नाथ राम  ने भी घटनास्थल का निरीक्षण किया है।  इस संबंध में डीएसपी श्री राम का कहना है मामले का अनुसंधान चल रहा है। मामले की सत्यता परखी जा रही है। इसीलिए अब तक  करवाई रुकी हुई है। वहीं पीड़िता के पति मोहम्मद कुद्दुस  का कहना है कि घर पर हमला करके लूटपाट मचाने वाले लोग काफी दबंग  किस्म के  हैं। उन लोगों से क्षेत्र के सभी लोग डरते हैं। कोई इनके विरुद्ध  गवाही देने को तैयार नहीं होता है। जबकि  पुलिस हमसे  गवाह लाने के लिए कह  रही है। ऐसे में हम लोग क्या कर सकते हो ज्ञात हो कि मामला जमीनी विवाद का भी है। चाचा और भतीजे के द्वारा बसोबास  की जमीन पर मालिकाना हक के लिए कोर्ट में मुकदमा किया  गया है। मामला लम्बित है।  जमीन विवादित है। परंतु उक्त जमीन पर जहां घर बना हुआ है। पीड़िता दशकों से वहां रह रही है। यानी  विवादित जमीन पीड़िता सादेका खातून और उसके पति मोहम्मद कुद्दुस  के कब्जे में है। वहीं पीड़िता सादे का खातून ने थाना में दिए आवेदन में अपने गांव और आसपास के गांव के 9 व्यक्ति को नामजद अभियुक्त बनाते हुए लिखा है मुझे अर्धनग्न करके पीटा गया है। तथा  बार-बर घर छोड़ कर भाग जाने और जान से मार देंगे धमकी दी जा रही थी। सभी के हाथ में लाठी डंडा तलवार मौजूद था। वहीं पीड़िता ने  आवेदन में लिखा  है कि जिस घर में  हम लोग रहते हैं। उस  जमीन में कोर्ट में मुकदमा चल रहा है। अब तक  मुकदमा का कोई फैसला भी नहीं आया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.