पुर्णिया- डॉ राज आर्यन प्रभारी उपाधीक्षक के पद से मुक्त डॉ मनोज बने प्रभारी।

नजरिया संवाद, संतोष कुमार धमदाहा/पुर्णिया। 6 माह पूर्व अनुमंडलीय अस्पताल धमदाहा का प्रभारी उपाधीक्षक बनाए जाने के बाद से ही सवालों के घेरे में रहे डॉक्टर राज आर्यन प्रभारी के पद से मुक्त कर दिया गया है। अनुमंडलीय अस्पताल धमदाहा में डॉक्टर राज आर्यन की जगह डॉ मनोज कुमार को प्रभारी उपाधीक्षक बनाया गया है। बताया जाता है कि डॉक्टर राज आर्यन ने अनुमंडलीय अस्पताल धमदाहा के उपाधीक्षक पद से हटने को लेकर सिविल सर्जन पूर्णिया को आवेदन दिया था जिसके आलोक में यह कार्रवाई की गई है। हालांकि विभाग में कई तरह के और चर्चाओं का बाजार भी गर्म है। मुनासिब होगा कि 31 जनवरी को अनुमंडलीय अस्पताल धमदाहा से डॉक्टर जे पी पांडे के सेवानिवृत्ति के पश्चात 1 फरवरी 2022 से डॉ राज आर्यन ने अनुमंडलीय अस्पताल के प्रभारी उपाधीक्षक के रूप में पदभार ग्रहण किया था। उसके बाद से ही लगातार डॉक्टर राज आर्यन के प्रभारी बनाए जाने पर अनुमंडलीय अस्पताल धमदाहा के चिकित्सक ने सवाल खड़ा किया था कि डॉक्टर राज आर्यन से कई वरीय चिकित्सक रहने के बावजूद भी उन्हें प्रभारी बनाया गया है। जबकि डॉ राज आर्यन विभागीय परीक्षा उत्तीर्ण नहीं है। ऐसे में उन्हें डीडीए का प्रभार देना नियम संगत नहीं है तो वहीं जब मामले ने तूल पकड़ा था तो विभागीय लोगों ने उनके ऊपर पूर्व में विभाग द्वारा किए गए कई तरह के कार्रवाई के पत्र को भी सामने लाया था। जिसमें कोविड काल के दौरान अनुपस्थित रहने के दौरान हुई कार्रवाई से संबंधित पत्र के साथ-साथ ट्रेजरी नहीं होने का आरोप लगाया था। हालांकि इस आरोप के बाद मामला तब आम लोगों के सामने आया जब नीति आयोग की टीम के समक्ष स्थानीय युवाओं ने डॉक्टर राज आर्यन के प्रभारी बनाए जाने को लेकर सवाल खड़ा किया। जिस पर नीति आयोग के संयुक्त सचिव बलदेव पुरुषार्थ �

Leave a Reply

Your email address will not be published.