बारसोई में वरिय अभियंताओं का दो कार्यालय शोभा कि वस्तु। 

 

 नजरिया संवाददाता राजकुमार

नहीं होता कोई काम सिर्फ खाना पूर्ति के लिए वर्ष में एक दो वार दिखाई देते हैं।पदाधिकारी।

सम्वादसुत्र बारसोई कटिहार फोटो मेल पर।

बारसोई अनुमंडल कार्यालय परिसर और परिसर से सटे विकास संबंधी कार्यों से जुड़े अभियंताओं का दो कार्यालय है। एक स्थानीय क्षेत्रीय अभियंत्रण संगठन कार्य प्रमंडल 2 तथा दुसरा  ग्रामीण कार्य विभाग कार्य प्रमंडल बारसोई दोनों ही कार्यालय में कुर्सी, टेबल, और एक दो चपरासी के अलावे कुछ भी नहीं है। ना ही खाता-बही और ना ही क्मप्यूटर, लेपटाप जैसे आधुनिक सिस्टम, इससे साफ पता चलता है कि यहां क्या चलता है।किसी से पुछो तो बहाने वाला जबाब इनके पास तैयार रहता है। ऐसा आदेश पाल या चतुर्थ वर्गीय कर्मी कहते हैं और  पदाधिकारियों का कहना है कि  हमारा काम आफिस में बैठकर कुर्सी तोड़ना नहीं है। हम लोग फील्ड वर्क करने वालों में से हैं। जबकि हकीकत यह है कि, अगर इनके सामने कागज़ नहीं हो तो किसी भी योजना का कार्य स्थल बताने में ये असमर्थ होते हैं। एक दो कनिय अभियंता को छोड़कर एक भी पदाधिकारी क्षेत्र में नहीं जाते हैं।वहीं शनिवार को जब दोनों कार्यालय को देखा गया छोटे कर्मचारी बैठे हुए हैं।  ताकि कोई यह नहीं कह सके कि कार्यालय बंद रहता है। क्योंकि पूर्व में ऐसी शिकायत कई बार हो चुकी है। वहीं ग्रामीण कार्य विभाग कार्य प्रमंडल बारसोई के कार्यालय में एक दर्जन से अधिक पदाधिकारी और कर्मी कार्यरत है।परन्तु यहाँ आदेश पाल जैसे चार छोटे कर्मी मिले इन लोगों ने बताया कि पदाधिकारी नहीं आए हैं। कार्यालय हमलोग खोलते और बंद करते हैं। एक व्यक्ति ने कहा कि यहां कार्य सामाग्री नहीं रहने के कारण कार्यों का सम्पादन कटिहार से होता है। वही कार्यपालक अभियंता केशव साहनी से संपर्क स्थापित होने पर उन्होंने कहा कि सारा काम तो ठीक-ठक चलता है मेरी पैनी नजर कार्यों पर रहती है। मैं रोज बारसोई  नहीं आ पाता  जिस दिन आऊंगा तो आप लोगों को बुलाकर बात करूंगा। वहीं  बार-बार शिकायत होने, समाचार पत्रों में नकारात्मक समाचार छपने  तथा जिला पदाधिकारी के द्वारा संज्ञान लेते हुए अनुमंडल पदाधिकारी से कार्यालय का जांच करवाने से भयभीत होकर स्थानीय क्षेत्रीय अभियंत्रण संगठन कार्य प्रमंडल 2 के कार्यालय में  एक कार्यालय सहायक को शनिवार को कुर्सी पर बैठ कर ओंघते हुए देखा गया।पूछने पर उन्होंने बताया कि एकाउंटेंट  छुट्टी पर है। डाटा एंट्री आपरेटर आया नहीं है। कटिहार में काम करता है। ज्ञात हो कि डाटा ऑपरेटर और अकाउंटेंट  इत्यादि  लिपिक वर्ग के कर्मचारी  अगर कार्यालय में नहीं हो तो कार्यालय का कार्य होना असंभव है। बता दें कि उक्त कार्यालय में भी सिर्फ टेबल कुर्सी है। कोई आधुनिक सिस्टम नहीं है। जिसमें कि काम किया जाय। पदाधिकारी यहां आते नहीं हैं। और वर्तमान में तो कार्य प्रमंडल एक के कार्यपालक अभियंता हेमन्त कुमार  को कार्य प्रमंडल टू  बारसोई का प्रभार सौंपा गया है। ऐसे में एक पदाधिकारी कटिहार और बारसोई दोनों जगह नहीं बैठ पाते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.