बेतिया- जिले के सभी स्वास्थ्य केन्द्रों पर आंगनवाड़ी तथा आशा कार्यकर्ताओं द्वारा बच्चों को लगाया गया टीका।

– गंभीर बीमारियों से बचाव के लिए नियमित टीकाकरण बेहद जरूरी, इसलिए जरूर कराएं टीकाकरण
– जिले में अभी तक 83 प्रतिशत बच्चे हुए टीकाकृत

बेतिया 16 अगस्त।। जिले के विभिन्न प्रखंडों में संचालित आंगनबाड़ी केंद्रों पर नियमित टीकाकरण (आर आई) शिविर का आयोजन किया गया। इसमें गर्भवती महिलाओं और बच्चों का टीकाकरण किया गया। यह टीकाकरण संबंधित आंगनबाड़ी केंद्र की सेविका और स्थानीय आशा कार्यकर्ता के सहयोग से संबंधित क्षेत्र की एएनएम द्वारा किया गया। इस दौरान टीकाकरण के लिए आई गर्भवती महिलाओं को जरूरी सलाह दी गई और गर्भावस्था के दौरान खानपान, रहन-सहन, व्यक्तिगत साफ-सफाई समेत गर्भावस्था के दौरान बरती जाने वाली सतर्कता सहित अन्य आवश्यक जानकारी भी दी गई। धातृ महिलाओं को बच्चों के स्वस्थ और मजबूत शरीर निर्माण के लिए नियमित टीकाकरण कितना जरूरी है, नियमित टीकाकरण कराने से होने वाले फायदे समेत अन्य आवश्यक जानकारियाँ भी दी गई। इसके अलावा स्तनपान सप्ताह की सफलता को लेकर स्तनपान को बढ़ावा देने समेत परिवार नियोजन अपनाने, सुरक्षित और सामान्य प्रसव के लिए संस्थागत प्रसव को बढ़ावा देने के लिए भी जागरूक किया गया।

विभिन्न गंभीर बीमारियों से बचाव के लिए नियमित टीकाकरण जरूरी-

जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ अवधेश कुमार सिंह ने बताया कि विभिन्न प्रकार के गंभीर बीमारियों से बचाव के लिए नियमित टीकाकरण बेहद जरूरी है। इसलिए, मैं जिले की तमाम गर्भवती महिलाओं को खुद और 0 से 05 आयु वर्ग के बच्चों के अभिभावकों से अपील करता हूँ कि अपने बच्चों का बेहिचक टीकाकरण कराएं। इससे ना केवल गंभीर बीमारी से बचाव होगा, बल्कि सुरक्षित और सामान्य प्रसव को बढ़ावा भी मिलेगा। बच्चों का शारीरिक विकास भी बेहतर तरीके से होगा। उन्होंने बताया कि  शून्य से पांच वर्ष तक के बच्चों को बीसीजी, ओपीवी, पेंटावेलेंट, रोटा वैक्सीन, आईपीवी, मिजल्स, विटामिन ए, डीपीटी बूस्टर डोज, मिजल्स बूस्टर डोज और बूस्टर ओपीवी के अलावा जेई (जापानी बुखार) के टीके लगाए जाते हैं। जबकि, गर्भवती महिलाओं को टेटनेस-डिप्थीरिया (टीडी) का टीका भी लगाया जाता है। नियमित टीकाकरण बच्चों और गर्भवती महिलाओं को कई गंभीर बीमारी से बचाव करता है। साथ ही प्रसव के दौरान जटिलताओं से सामना करने की भी संभावना नहीं के बराबर रहती है।

अभी तक जिले में 83 प्रतिशत बच्चे हुए टीकाकृत –

जिले में 83 प्रतिशत बच्चों का नियमित टीकाकरण पूरा हो चुका है। ये बातें जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ अवधेश कुमार सिंह ने बताया। उन्होंने कहा कि सभी स्वास्थ्य, उपस्वास्थ्य केंद्रों पर आंगनवाड़ी तथा आशा के द्वारा टीकाकृत किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि  नियमित टीकाकरण का सप्ताह में दो दिन आंगनबाड़ी केन्द्रों पर आयोजन किया जाता है। प्रत्येक सप्ताह के बुधवार और शुक्रवार टीकाकरण कार्यक्रम किया जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.