मुजफ्फरपुर- राज्य में पहली बार फाइलेरिया मरीजों की होगी डिजिटली लाइन लिस्टिंग।

– राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन के ग्रुप करेंगे सूची तैयार
– मुरौल में शुरू हुआ हाइड्रोसील का ऑपरेशन

मुजफ्फरपुर, 27 अगस्त । शहरी क्षेत्रों में फाइलेरिया रोगियों की खोज व लाइन लिस्टिंग के लिए स्वास्थ्य विभाग, नगर निगम के स्वयं सहायता समूहों की मदद लेगा।  यह ग्रुप राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन से संबंधित हैं। जिसके 500 ग्रुप में करीब पांच हजार महिलाएं शामिल हैं। जिला भीबीडीसी पदाधिकारी डॉ सतीश कुमार ने कहा कि राज्य में फाइलेरिया रोगियों की खोज व लाइन लिस्टिंग के लिए पहली बार इस तरह का नवाचार किया जा रहा है। शहरी क्षेत्रों में आशा कार्यकर्ता नहीं होने के कारण  नगर निगम में शामिल स्वयं सहायता ग्रुप से फाइलेरिया रोगियों को खोजने में काफी मदद मिलेगी। इन्हें रोगियों की खोज के लिए प्रशिक्षित किया जाएगा।

कम्युनिटी रिसोर्स पर्सन को मिला प्रशिक्षण-

डॉ सतीश कुमार ने बताया कि शनिवार को 30 कम्युनिटी रिसोर्स पर्सन को फाइलेरिया रोगियों की खोज के लिए प्रशिक्षित किया गया है। यह अपने समूह सदस्यों के माध्यम से घर घर जाकर फाइलेरिया मरीजों की खोज तथा लाइन लिस्टिंग करेगे।

लिंक से होगी डेटा फिलिंग-

डॉ सतीश ने बताया कि कम्युनिटी रिसोर्स पर्सन को एक लिंक दिया गया है। जिसमें वह मरीज के ब्यौरे को ओडीके के माध्यम से भरेंगें। राज्य में फाइलेरिया मरीजों के ब्यौरा भरने का काम डिजिटल रूप से बिहार में पहली बार हो रहा है। नगर निगम क्षेत्र में अच्छे प्रदर्शन पर स्वयं सहायता समूहों को एमडीए राउंड के तहत भी मौका दिया जाएगा।

मुरौल में शु़रू हुआ हाइड्रोसील का ऑपरेशन-

डॉ सतीश कुमार ने कहा कि जिले में हाइड्रोसील ऑपरेशन का दो स्पॉट कांटी और मुरौल सीएचसी को बनाया गया था। जिसमें मुरौल में शनिवार को कुल 5 ऑपरेशन किए गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.