शिवहर- वेक्टर जनित रोगों से बचाव व इलाज संबंधी जानकारी के लिए लोगों को करें जागरूक।

  • वेक्टर जनित रोग से संबंधित सोशल मोबिलाइजेशन के लिए दिया गया एक दिवसीय प्रशिक्षण ।

शिवहर। वेक्टर जनित रोग से बचाव और उसके इलाज से संबंधित संपूर्ण जिले वासियों में जागरूकता के लिए पहल शुरू कर दी गई है। इसका मुख्य उद्धेश्य जिले से कालाजार, फाइलेरिया, मलेरिया और डेंगू आदि जानलेवा बीमारी से बचाव के बारे में संपूर्ण जानकारी हासिल हो सके। इसी मुहिम के तहत  जिले के स्वास्थ्य कर्मियों के लिए शुक्रवार को जिला स्वास्थ्य समिति के सभागार में वेक्टर जनित रोग से संबंधित सोशल मोबिलाइजेशन के लिए एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किया गया। जिसमें पीसीआई के रीजनल मोबिलाइजेशन कॉर्डिनेटर संजय कुमार के द्वारा स्वास्थ्य संस्थानों के बीसीएमए, केटीएस एवं कालाजार प्रभावित क्षेत्र के सीएचओ को प्रशिक्षित किया गया। इस संबंध में संजय कुमार ने बताया कि वेक्टर जनित रोग नियंत्रण कार्यक्रम में बाधाएं इन बीमारियों से प्रभावित इलाकों में लोगों के बीच भ्रम, उदासीनता, परेशानियां व उनके समाधान पर बल दिया जा रहा है। जिससे लोगों में इन बीमारियों से बचाव की जानकारी बढ़ सके।

समुदाय के बीच चलाया जाएगा जागरूकता अभियान:

जिला वेक्टर जनित रोग नियंत्रण ऑफिसर डॉ सुरेश राम ने बताया कि प्रशिक्षण का उद्देश्य यह है कि समुदाय के बीच काम करने वाले स्वास्थ्य कर्मी आम लोगों को कालाजार बीमारी के लक्षण उससे बचने के उपाय और बरती जाने वाली सावधानियों के बारे में बताकर उन्हें जागरूक करेंगे। ये लोग लोगों को बताएंगे कि बरसात के दिनों में कुछ सावधानी बरतकर आप सभी लोग कालाजार जैसी बीमारी से बचने के साथ ही अन्य लोगों को भी इस बीमारी के दुष्परिणाम से बचा सकेंगे। ये सभी स्वास्थ कर्मी लोगों को मच्छरदानी का नियमित उपयोग करने और अपने घर के आसपास गड्ढों में बरसात का पानी जमा नहीं होने देने की सलाह देंगे। ताकि उस पानी में कालाजार के मच्छर नहीं पनप सके। इसके साथ ही क्षेत्र में छिड़काव के लिए जाने वाली टीम का सहयोग  कर घर-घर में छिड़काव करवाने के लिए प्रेरित करेंगे।

वेक्टर जनित रोगों के संबंध में जानना जरूरी:

डॉ सुरेश राम ने बताया कि लोगों को सबसे पहले वेक्टर जनित रोगों के संबंध व उनके उन्मूलन के लिए चलाए जा रहे कार्यक्रम की जानकारी होनी चाहिए। वेक्टर जनित रोग उन्हें कहते हैं जो मच्छर या मक्खियों के द्वारा किसी गंभीर बीमारी से संक्रमित व्यक्ति से रोगाणु और विषाणु लेकर स्वस्थ्य व्यक्ति में काटने के कारण होती है। इनमें कालाजार, डेंगू बुखार, जापानी एन्सेफलाइटिस, मलेरिया आदि शामिल हैं। कालाजार बालू मक्खी के काटने से फैलता है। वहीं डेंगू बुखार, जापानी इंसेफेलाइटिस और मलेरिया जैसी बीमारी फैलाने में मच्छर की अहम भूमिका होती है। समय पर इलाज के अभाव में रोग से ग्रसित व्यक्ति की जान भी जा सकती है। इसलिए लोगों को इन बीमारियों के लक्षणों की पहचान जरूरी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.