सीतामढ़ी- आयुष्मान भारत योजना गरीबों के लिए संजीवनी ।

– जिले में 2,18,598 का बना गोल्डेन कार्ड, 10,524 का हुआ इलाज

सीतामढ़ी। 10 अगस्त। जिले में प्रधानमंत्री जन आरोग्य आयुष्मान भारत योजना गरीबों के लिए संजीवनी साबित हो रही है। गरीबों को योजना के तहत इलाज कराने में  सुविधा मिल रही है। बेहतर सुविधाओं का ही परिणाम है कि जिले में योजना के तहत 2 लाख 18 हजार 598 परिवारों को लाभ दिया जा रहा है। इसमें से 10 हजार 524 मरीजों का इलाज हो चुका है।
इसमें से सरकारी अस्पताल में 6 हजार 671 लोगों ने इलाज कराया, जबकि 3 हजार 853 लोगों ने निजी अस्पतालों में इलाज कराया। योजना के जिला कार्यक्रम समन्वयक साहेब सिंह ने बताया कि आयुष्मान भारत योजना सीतामढ़ी जिले में गरीब तबकों के लिए वरदान साबित हो रही है। इस योजना के तहत गरीब परिवारों को नई जिंदगी मिली है।

2021-22 में पूरे बिहार में सबसे अधिक कार्ड बनाये गए-

प्रधानमंत्री की अतिमहत्वकांक्षी योजना आयुष्मान भारत योजना के तहत गोल्डेन कार्ड बनाने में सीतामढ़ी पहले स्थान पर आया है। वित्तीय वर्ष 2021-22 में सीतामढ़ी जिले में 72 हजार 63 लोगों को कार्ड निर्गत किये गए। वहीं मुजफ्फरपुर 47 हजार 694 कार्ड के साथ दूसरे और 44 हजार 317 कार्ड के साथ पटना तीसरे स्थान पर रहा। जिला कार्यक्रम समन्वयक साहेब सिंह ने बताया कि आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के संबंध में जिलेवासियों को जागरूक किया गया है। जिला से लेकर प्रखंड व पंचायत स्तर पर स्थानीय जनप्रतिनिधियों के साथ समन्वय स्थापित करते हुए लोगों के आयुष्मान कार्ड बनाये गए। इसी के परिणाम स्वरूप सीतामढ़ी में वर्ष 2021-22 में सबसे अधिक गोल्डेन कार्ड निर्गत किये गए।

पंचायतों में विशेष शिविर का आयोजन-

आईटी मैनेजर अमित कुमार ने बताया कि कार्ड बनाने के लिए जिले के सभी ग्राम पंचायतों में विशेष शिविर का आयोजन किया जा रहा है। योजना से संबंधित प्रचार प्रसार के लिए समय-समय पर जागरूकता अभियान चलाया जाता है। जागरूकता के लिये सभी चौक चौराहों, सार्वजनिक स्थल, आरटीपीएस काउंटर, प्रखंड कार्यालय व ग्राम पंचायतों में बैनर व पोस्टर लगाया गया है। जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के आपसी समन्वय से यह सफलता मिली है। आयुष्मान योजना से संबंधित शिकायत निवारण के लिए हाल ही में सीतामढ़ी जिले को बेस्ट परफॉर्मेंस का अवार्ड मिला है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.