सीतामढ़ी- डेंगू को लेकर बरती रही सतर्कता, हो रहा फॉगिंग।

  •  डेंगू प्रभावित विशेष इलाकों में 500 मीटर के दायरे में विशेष फॉगिंग करवाया जा रहा

सीतामढ़ी। डेंगू को लेकर स्वास्थ्य विभाग अलर्ट है। लोगों को इस बीमारी के बारे मे जागरूक किया जा रहा है, उन्हें बचाव के तरीके बताए जा रहे हैं। साथ ही डेंगू पीड़ित मरीजों के गांवों-टोलों में स्वास्थ्य विभाग की प्रशिक्षित टीम द्वारा फॉगिंग कराया जा रहा है, ताकि डेंगू मच्छर का प्रकोप खत्म हो सके। जिला भीबीडी नियंत्रण पदाधिकारी डॉ. रवीन्द्र कुमार यादव ने कहा कि डेंगू प्रभावित विशेष इलाकों का चयन कर वहां 500 मीटर के दायरे में विशेष फॉगिंग करवाया जा रहा है।
संक्रमित क्षेत्र में विशेष रूप से फॉगिंग और एंटी लार्वा का छिड़काव हो रहा है, जिससे डेंगू के मच्छर अन्य लोगों को संक्रमित ना करें। शुक्रवार को डुमरा स्थित कुम्हरा विशनपुर वार्ड 11 में सीएचओ प्रणव कुमार की देखरेख में फॉगिंग किया गया।

जागरुकता अभियान चलाया जा रहा-

भीबीडी नियंत्रण पदाधिकारी डॉ. रवीन्द्र कुमार यादव ने बताया कि डेंगू एडिस मच्छर के काटने से होता है। जो पानी जमने के बाद फैलता है। इसमें ब्लड का प्लेटलेट घट जाता है। लोग अत्यधिक कमजोर हो जाते हैं। समय पर इलाज नहीं होने पर जानलेबा सावित होता है। इस बावत जन जागरुकता अभियान चलाया जा रहा है। मायकिंग कर लोगों को अगाह किया जा रहा है कि पानी नहीं जमने दें। दिन में भी मच्छरदानी का उपयोग करें। साथ ही आसपास का इलाका स्वच्छ रखें।

शरीर को पूरा ढकने वाला कपड़ा पहनें-

डेंगू या अन्य वेक्टर जनित रोगों से बचने के लिए दिन में भी सोते समय मच्छरदानी का इस्तेमाल करना चाहिए। मच्छर भगाने वाली क्रीम या दवा का प्रयोग दिन में भी कर सकते हैं। पूरे शरीर को ढकने वाले कपड़े पहनना ज्यादा बेहतर है। घर के सभी कमरों की सफ़ाई के साथ ही टूटे-फूटे बर्तनों, कूलर, एसी, फ्रिज में पानी को स्थिर नहीं होने देना चाहिए। गमला, फूलदान का पानी एक दिन के अंतराल पर बदलना जरूरी है। ऐसा करते रहने से डेंगू से बचे रहेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.