सीतामढ़ी- राष्ट्रपति ने किया प्रधानमंत्री टीबी मुक्त भारत अभियान का शुभारंभ।

– जिले के चयनित आयुष्मान भारत हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर, लगमा में कार्यक्रम, राष्ट्रपति वीडियो कांफ्रेंसिंग से जुड़ी थीं

सीतामढ़ी। 9 सितंबर। राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने 2025 तक देश से टीबी उन्मूलन के मिशन को जीवंत करने के लिए प्रधानमंत्री टीबी मुक्त भारत अभियान का शुभारंभ किया। इस अभियान का उद्देश्य टीबी ग्रस्त उपचाररत रोगियों के लिए सामुदायिक सहायता एवं सहभागिता सुनिश्चित करना है। इस कार्यक्रम के दौरान राष्ट्रपति वीडियो कांफ्रेंसिंग से जिले के चयनित आयुष्मान भारत हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर, लगमा से जुड़ी थीं। डुमरा पीएचसी अंतर्गत लगमा हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर में आयोजित कार्यक्रम में सिविल सर्जन सहित स्वास्थ्य विभाग के वरिष्ठ अधिकारी जुड़े। अपने संबोधन में राष्ट्रपति ने कहा कि हमें भरोसा ही नहीं, बल्कि पूर्ण विश्वास है कि टीबी हारेगा, देश जीतेगा। उन्होंने कहा कि टीबी का सबसे ज्यादा शिकार गरीब समुदाय होता है। 2025 तक भारत को टीबी मुक्त बनाना है। उन्होंने इसके लिए जनभागीदारी का आह्वान किया। टीबी का उन्मूलन जनकल्याण का बड़ा महत्वपूर्ण कदम है। मुझे पूरा विश्वास है कि इस अभियान में जनप्रतिनिधियों की भागीदारी बड़ा और सार्थक होगी।

लगमा कम्यूनिटी हेल्थ ऑफिसर का संवाद के लिए हुआ था चयन-

प्रधानमंत्री टीबी मुक्त भारत अभियान के शुभारंभ पर अलग-अलग राज्यों के प्रतिनिधियों का राष्ट्रपति से संवाद के लिए चयन किया गया था।  इसके लिए बिहार राज्य से तीन जिलों के प्रतिनिधियों का चयन किया गया था। जिसमें से एक सीतामढ़ी जिला के लगमा हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर में कार्यरत कम्यूनिटी हेल्थ ऑफिसर प्रणव कुमार भी शामिल थे। प्रणव कुमार ने मार्च-अप्रैल में विश्व टीबी दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में अपने काम से राज्य और देश में अपनी पहचान बनाई है। उनके किये गए कामों की तस्वीरें और वीडियो को सेंट्रल टीबी डिवीजन द्वारा पीएमओ को रिट्वीट किया गया था। बिहार सरकार के हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर के ट्विटर हैंडल से भी उनके हर अभियान की तस्वीरों और वीडियो को लाइक और रिट्वीट किया गया है। इन सभी उपलब्धियों की वजह से ही उनका चयन किया गया।

प्रधानमंत्री टीबी मुक्त भारत अभियान से टीबी उन्मूलन को मिलेगी गति-

जिला यक्ष्मा अधिकारी डॉ. मनोज कुमार ने बताया कि सरकार ने 2025 तक देश को टीबी रोग से मुक्त करने का लक्ष्य रखा है। इसके लिए जिले में जिला यक्ष्मा केंद्र का टीबी के खिलाफ मजबूती से अभियान चल रहा है। राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू द्वारा शुरू किये गए प्रधानमंत्री टीबी मुक्त भारत अभियान से इसमें और गति आयेगी। उन्होंने बताया कि राष्ट्रपति ने निक्षय 2.0 पोर्टल की भी शुरूआत की, जो इस अभियान का अहम हिस्सा है। निक्षय मित्र पोर्टल दानदाताओं को टीबी का उपचार करा रहे लोगों के लिए अनेक तरह की मदद देने का मंच प्रदान करेगा। इसके तीन स्तरीय सहयोग में पोषाहार, अतिरिक्त निदान और वाणिज्यिक समर्थन शामिल है। इन दानदाताओं को ही निक्षय मित्र कहा जाएगा। इसमें जन प्रतिनिधि, राजनीतिक दल से लेकर कॉर्पोरेट, एनजीओ और आम लोग तक शामिल हो सकते हैं। इस अवसर पर सिविल सर्जन डॉ सुरेश चंद्र लाल, भीबीडी नियंत्रण पदाधिकारी डॉ. रवीन्द्र कुमार यादव, डीसीएम समरेंद्र नारायण वर्मा, डीपीएम असित रंजन, लेखापाल रंजन शरण, डीपीसी रंजय कुमार, सभी आशा कार्यकर्ता समेत अन्य स्वास्थ्य कर्मी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.