सीतामढ़ी- सरकारी चिकित्सकों के साथ अब निजी डॉक्टर भी टीबी बीमारी को जड़ से खत्म करने में निभाएंगे अपनी महती भूमिका।

  • राष्ट्रीय यक्ष्मा उन्मूलन कार्यक्रम अंतर्गत जिले के प्राइवेट प्रैक्टिसनर्स का टीबी नोटिफिकेशन बढ़ाने हेतु कार्यशाला आयोजित।

सीतामढ़ी। राष्ट्रीय यक्ष्मा उन्मूलन कार्यक्रम अंतर्गत जिला स्वास्थ्य समितिए यक्ष्मा की ओर से एक निजी होटल में जिले के प्राइवेट प्रैक्टिसनर्स का टीबी नोटिफिकेशन बढ़ाने हेतु कार्यशाला आयोजित की गई। जिला यक्ष्मा पदाधिकारी डॉ मनोज कुमार एवं वरिष्ठ टीबी रोग विशेषज्ञ डॉ आर ए शर्मा ने दीप प्रज्वलित कर कार्यशाला का शुभारंभ किया। कार्यशाला में डॉ आरए शर्मा ने प्राइवेट सेक्टर में टीबी मरीजों के इलाज एवं जांच में हो रही परेशानी को देखते हुए जिला यक्ष्मा पदाधिकारी से जिले में डीएमसी की संख्या बढ़ाने तथा जांच की गुणवत्ता बनाए रखने एवं प्राइवेट प्रैक्टिसनर्स के क्लीनिक में डॉट्स की दवा उपलब्ध कराने की बात कही। डॉ मनोज कुमार ने पावर पॉइंट प्रेजेंटेशन के माध्यम से वर्तमान में यक्ष्मा मरीजों की टीबी नोटिफिकेशनए सक्सेस रेट पर चर्चा करते हुए उपस्थित प्राइवेट प्रैक्टिशनर से जिले में टीबी नोटिफिकेशन बढ़ाने की अपील की। साथ ही एमडीआर मरीजों की जांच, फॉलोअप एवं इलाज से संबंधित वर्तमान में दी जा रही सुविधाओं के बारे में अवगत कराया। साथ ही यक्ष्मा मरीजों के परिजनों को टीवी प्रीवेंटेड ट्रीटमेंट निश्चित रूप से दिए जाने की आवश्यकता पर जोर दिया।

निश्चय सेतु ऐप एवं आरोग्य साथी ऐप की मिली जानकारी-

जिले में कार्यरत संस्था डॉक्टर फॉर यू के राज्य प्रतिनिधि युवराज सिंह एवं जिला प्रतिनिधि ज्ञानेश कुमार ने अपने यहां इलाजरत यक्ष्मा मरीजों के परिजनों को निश्चित रूप से टीपीटी उपलब्ध कराने की बात कही। डॉ मनोज कुमार ने निश्चय सेतु ऐप एवं आरोग्य साथी ऐप के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि सभी चिकित्सक एवं स्वास्थ्य कर्मी इस ऐप से यक्ष्मा रोगए जांचए इलाज एवं सरकार द्वारा दी जा रही सुविधाओं के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। उन्होंने बताया कि इस ऐप में वीडियो के माध्यम से सभी प्रशिक्षण सामग्री उपलब्ध हैए एवं यक्ष्मा मरीज भी अपनी पूर्ण विवरण एवं इलाज से संबंधित जानकारी ऐप के माध्यम से प्राप्त कर सकते हैं।

निजी चिकित्सकों को छठ पूजा के पूर्व होगा भुगतान-

डीईओ सह लेखापाल रंजन शरण ने बताया कि टीबी नोटिफिकेशन हेतु निजी चिकित्सकों को प्रति मरीज 500 रूपये सरकार द्वारा डीबीटी के माध्यम से दिया जाता है। वित्तीय वर्ष 2022-23 में आवंटित राशि का भुगतान छठ पूजा के पूर्व निश्चित रूप से किए जाने का प्रयास किया जा रहा है। कार्यशाला में आईएमए सीतामढ़ी के अध्यक्ष डॉ निर्मल कुमार गुप्ता, डॉ हरी प्रसाद, डॉ एसके भावसिंका, डॉ निर्मल सिंह, डॉ रामा शंकर प्रसाद, डॉ राजीव कुमार, डॉ एसके शराफ, डॉ. एमबी सिंहए डॉ जेके सिंह, डॉ एसएस महतो, डीपीएम जिला स्वास्थ समिति सीतामढ़ी आसीत रंजन, डीपीसी रंजय कुमार, एसटीएलएस संजीत कुमार, एलटी मोण् शमीम आजाद आदि उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.