सीतामढ़ी- 2000 कैदियों की हुई यक्ष्मा जांच हेतु स्क्रीनिंग ।

  • मंडल कारा, डुमरा में जिला यक्ष्मा केंद्र की ओर से स्वास्थ्य जांच शिविर का आयोजन

सीतामढ़ी। 12 सितंबर, जिला मुख्यालय स्थित मंडल कारा, डुमरा में जिला यक्ष्मा पदाधिकारी सह जिला एड्स नियंत्रण पदाधिकारी डॉ मनोज कुमार के नेतृत्व में स्वास्थ्य जांच शिविर का आयोजन किया गया। इस दौरान मंडल कारा में बंद लगभग 2000 कैदियों के यक्ष्मा जांच हेतु स्क्रीनिंग किया गया। इसमें से 45 संदिग्ध का बलगम ट्रूनेट जांच के लिए संग्रह किया गया। साथ ही 115 कैदियों की एचआईवी जांच और काउंसलिंग भी किया गया। जिला यक्ष्मा पदाधिकारी मनोज कुमार ने बताया कि जिला पदाधिकारी मनेस कुमार मीणा ने बीते दिनों हुए नीति आयोग की बैठक में टीबी रोगियों की खोज में तेजी लाने का निर्देश दिया गया था। इसके लिए विभिन्न स्वास्थ्य संस्थानों समेत अन्य जगहों पर स्वास्थ्य शिविर लगाने का निर्देश दिया गया था। इसी के तहत मंडल कारा में कैदियों के लिए टीबी जांच शिविर का आयोजन किया गया।

टीबी उन्मूलन हेतू जिला में हो रहा जरूरी प्रयास-

जिला यक्ष्मा पदाधिकारी डॉ. मनोज कुमार ने कहा कि वर्ष 2025 तक देश को पूरी तरह टीबी से मुक्त करने का लक्ष्य निर्धारित है। इसे लेकर जिला टीबी विभाग द्वारा जरूरी प्रयास किये जा रहे हैं। टीबी मरीजों की पहचान से लेकर निःशुल्क दवा वितरण एवं निक्षय योजना के तहत मरीजों को मिलने वाले लाभ को सुनिश्चित किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि टीबी रोग हमारे फेफड़ों को सबसे अधिक प्रभावित करता है। खांसी इसकी शुरुआती लक्षणों में से एक है। सूखी खांसी आना, इसके बाद खांसी के साथ-साथ बलगम व खून भी आने लगते हैं। दो हफ्ते या इससे ज्यादा समय तक खांसी होने पर तुरंत नजदीक के स्वास्थ्य केंद्र पर जाकर लोगों को यक्ष्मा की जांच करानी चाहिए।

नियमित रूप से आयोजित किये जाते हैं शिविर-

जेल अधीक्षक आरबी दास ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग द्वारा इस तरह के शिविर नियमित रूप से आयोजित किये जाते हैं। उन्होंने बताया कि स्वास्थ्यकर्मियों द्वारा टीबी एवं एचआईवी से बचाव-उपचार और पोषण सहायता राशि के बारे में बताया गया। उन्होंने कहा कि टीबी का समय पर इलाज जरूरी है। टीबी की जांच व इसके इलाज की सुविधा सभी सरकारी चिकित्सा केंद्रों पर निःशुल्क उपलब्ध है। इसलिए रोग संबंधी किसी तरह का लक्षण होने पर तुरंत इसकी जांच कराते हुए इलाज शुरू कराना चाहिए। शिविर में प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. धनंजय कुमार, चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. निखिल रंजन, डीईओ सह लेखापाल रंजन शरण, एसटीएलएस संजीत कुमार, डीआईएस राजेश कुमार, एलटी मनोज मधुकर, सहायक संजीव कुमार आदि का मौजूद रहें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.